जम्मू-कश्मीर में चुनाव की आहट: कश्मीरी पंडितों के लिए आरक्षित सीटें जम्मू में 6 और कश्मीर में एक बढ़ीं।

केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में चुनावों का दौर शुरू हो गया है. चुनाव से पहले विधानसभा सीटों का परिसीमन भी पूरा हो चुका है. परिसीमन आयोग ने गुरुवार को बैठक की और अंतिम रिपोर्ट पर हस्ताक्षर किए। इसमें निर्वाचन क्षेत्रों की संख्या और उनके आकार का विवरण है।

आयोग की सिफारिशों में क्या है खास?
केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद चुनाव आयोग वोटर लिस्ट तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर देगा. जम्मू-कश्मीर परिसीमन आयोग के मुताबिक, पांच में से दो लोकसभा सीटें जम्मू और कश्मीर संभाग में होंगी, जबकि एक सीट दोनों के साझा क्षेत्र में होगी. यानी आधा इलाका जम्मू डिविजन का हिस्सा होगा और आधा हिस्सा कश्मीर घाटी का. इसके अलावा दो सीटें कश्मीरी पंडितों के लिए भी आरक्षित की गई हैं. जम्मू के अनंतनाग और राजौरी और पुंछ को मिलाकर एक संसदीय क्षेत्र बनाया गया है।

आयोग ने केंद्र शासित प्रदेश में सीटों की संख्या 83 से बढ़ाकर 90 करने का प्रस्ताव दिया है. साथ ही पहली बार 9 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित करने को कहा गया है. इनमें से 43 सीटें जम्मू में और 47 सीटें कश्मीर में होंगी. पहले 83 सीटों में से 37 जम्मू में और 46 कश्मीर में थीं.

महबूबा ने कहा- परिसीमन बीजेपी का ही विस्तार है

परिसीमन आयोग की बैठक के बाद महबूबा मुफ्ती ने कहा- परिसीमन क्या है? क्या यह अब बीजेपी का ही विस्तार बन गया है? जिसमें अब जनसांख्यिकीय आधार को नजरअंदाज कर दिया गया है और वे अपने एजेंडे पर काम करते हैं। हम इसे पूरी तरह से खारिज करते हैं. हमें इस पर भरोसा नहीं है. इसका संबंध केवल जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और जम्मू-कश्मीर के लोगों को कैसे कमजोर किया जाए, से है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button